Mutual Fund Distributor Kaise Bane : म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर कैसे बनते हैं

Whatsapp GroupJoin
Telegram ChannelJoin

अगर आप शेयर बाज़ार का ज्ञान रखते हैं और पैसा कमाना चाहते हैं तो आज कि पोस्ट “म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर कैसे बनते हैं | Mutual Fund Distributor Kaise Bane” एक बार जरुर पढ़ें. नमस्कार दोस्तों ! एक्सपर्ट कमाई ब्लॉग कि Business Expert Kamai कैटेगरी में आपका स्वागत है. जैसा कि आप जानते हैं हम कि हम अपने ब्लॉग में आपको पैसे कमाने के शानदार तरीके बताते रहते हैं. आज की पोस्ट में भी हम आपको पैसा कमाने का एक दम दमदार तरीका बता रहे हैं. यह तरीका अभी ट्रेंड में चल रहा है. वर्तमान के समय में बड़े पैमाने पर लोगों के द्वारा म्युचुअल फंड में अपना पैसा लगाया जा रहा है, क्योंकि इसके माध्यम से तगड़ी कमाई हो जाती है। यही वजह है कि इन्वेस्टमेंट करने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति इस प्रकार के फंड में अपना पैसा लगाना पसंद कर रहे हैं, ताकि वह अपने द्वारा इन्वेस्ट किए गए पैसे पर अच्छी कमाई कर सकें, परंतु म्युचुअल फंड हर किसी के द्वारा कस्टमर को बेचा नहीं जा सकता है।

पर्सनली म्युचुअल फंड की बिक्री करने के लिए म्यूचल फंड एजेंट अथवा डिस्ट्रीब्यूटर बनने की जरूरत होती है। इसलिए आज के हमारे इस स्पेशल आर्टिकल में हम आपको म्युचुअल फंड एजेंट बनने की पूरी प्रक्रिया के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि ” म्यूच्यूअल फंड क्या है” तथा “म्यूच्यूअल फंड एजेंट किसे कहते हैं” और “म्युचुअल फंड एजेंट कैसे बने।”

Read Also : एक सफल फ्रीलान्स वीडियो एडिटर कैसे बने?

Mutual Fund Distributor Kaise Bane

म्यूच्यूअल फंड क्या है (Mutual Fund Kya Hai)

हिंदी भाषा में म्यूच्यूअल फंड को पारस्परिक निधि कहा जाता है। अगर आसान भाषा में म्युचुअल फंड का मतलब क्या होता है, समझाया जाए तो दो अलग-अलग लोगों के द्वारा जो पैसा शेयर किया जाता है उसे ही म्यूच्यूअल फंड कहा जाता है।

म्यूचल फंड में बहुत सारे लोगों के द्वारा आपस में राय सलाह कर के एक साथ पैसा मिलाया जाता है और उसे शेयर मार्केट में या फिर इन्वेस्टमेंट स्कीम में लगाया जाता है और फिर जो भी फायदा होता है उसे सभी इन्वेस्टर के हिस्से के हिसाब से बांट दिया जाता है।

म्यूच्यूअल फंड में पैसा लगाने वाले व्यक्ति का पैसा कहां और कैसे इन्वेस्ट करना है, इस बात का डिसीजन एक फाइनेंस एक्सपर्ट की टीम के द्वारा लिया जाता है, जिसमें शेयर मार्केट के अनुभवी लोग शामिल होते हैं। फाइनेंस एक्सपर्ट की टीम का हेड एक फंड मैनेजर होता है।

फंड मैनेजर के तौर पर ऐसे ही व्यक्ति को रखा जाता है जिसे मार्केट और शेयर बाजार की अच्छी इंफॉर्मेशन होती है। एक्सपर्ट की टीम के द्वारा इन्वेस्टर के पैसे को कुछ इस प्रकार से इन्वेस्ट किया जाता है ताकि उन्हें कम से कम नुकसान हो और अधिक से अधिक रिटर्न उन्हें हासिल हो सके। इस प्रकार से म्यूचल फंड आपको बड़े पैसे वाले इन्वेस्टमेंट उपाय मे भी कम पैसे का इन्वेस्टमेंट करके इन्वेस्टमेंट का फायदा प्राप्त करने की सहूलियत प्रदान करता है।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट किसे कहते हैं (Mutual Fund Agent in Hindi)

ऐसा आदमी जो शेयर मार्केट में पैसा लगाने वाले व्यक्ति के माध्यम से म्यूचल फंड की खरीदी और बिक्री की सुविधा देता है और जिसे म्यूच्यूअल फंड योजना के लिए पैसा लगाने वाले व्यक्ति को लाने के लिए कमीशन प्रदान किया जाता है, उसे म्युचुअल फंड एजेंट के तौर पर जाना जाता है।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट को शेयर मार्केट की अच्छी जानकारी होती है। इसके अलावा इन्हें फाइनेंस और इन्वेस्टमेंट एनालिसिस करने के लिए भी जिम्मेदार माना जाता है। म्यूच्यूअल फंड एजेंट के द्वारा शेयर मार्केट, इकोनामी तथा इंडस्ट्री में महत्वपूर्ण डेवलपमेंट की भी निगरानी की जाती है। ऐसे बहुत सारे ट्रेनिंग प्रोग्राम अवेलेबल है, जो स्टूडेंट को म्युचुअल फंड एजेंट बनने की प्रोसेस में जरूरी स्कील के लिए ट्रेनिंग देते हैं।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट को म्युचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर अर्थात म्युचुअल फंड वितरक भी कहा जाता है। हमारे भारत देश में जितने भी म्यूच्यूअल फंड एजेंट है, उनके प्रोफेशन की देख रेख करने का काम एसोसिएशन ऑफ म्युचुअल फंड इन इंडिया के द्वारा किया जाता है। जो व्यक्ति हमारे देश में म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनना चाहता है, उसे एसोसिएशन ऑफ म्यूचल फंड इन इंडिया के साथ पंजीकृत होना जरूरी होता है।

Mutual Fund Agent Kaise Bane (Mutual Fund SIP Distributor Kaise Bane)

म्यूचल फंड में कोई भी व्यक्ति कम से कम ₹500 में इन्वेस्ट करना शुरू कर सकता है। यही वजह है कि लोग शुरुआती इन्वेस्टमेंट कम होने की वजह से म्यूचुअल फंड में पैसा लगा रहे हैं और इसके माध्यम से पैसा कमा कर अपने आर्थिक हालात को भी मजबूत बनाने में सफल हो रहे हैं।

अब जब म्यूचल फंड इन्वेस्टमेंट का एक लोकप्रिय तरीका हो गया है, तो ऐसी अवस्था में देश में म्यूच्यूअल फंड एजेंट की भी काफी ज्यादा डिमांड हो गई है। ऐसे में म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनना आपके लिए बहुत ही लाभदायक साबित हो सकता है। म्यूच्यूअल फंड एजेंट बन कर आप ना सिर्फ खुद भी म्यूच्यूअल फंड की खरीदारी कर सकते हैं बल्कि अन्य लोगों को भी गाइड कर के कमीशन के तौर पर अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने के लिए जरूरी स्किल्स

म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने के लिए जो आवश्यक कौशल है, उनकी जानकारी निम्नानुसार है।

कम्युनिकेशन स्किल (Communication Skills)

म्यूचल फंड एजेंट के तौर पर आपको अलग-अलग स्वभाव वाले लोगों से मिलने की आवश्यकता होती है। इसलिए उन्हें शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने हेतु मनाने के लिए आपको अपनी बोली भाषा अच्छी रखनी चाहिए और आपको अपनी कम्युनिकेशन स्किल को भी बेहतर बनाना चाहिए, क्योंकि अगर आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी नहीं होगी, तो आप कस्टमर के साथ सही प्रकार से बातचीत नहीं कर सकेंगे, जिसकी वजह से आपको इस फील्ड में ज्यादा फायदा नहीं मिल सकेगा।

दोस्ताना व्यवहार (Freindly Nature)

म्यूचल फंड बनकर ज्यादा फायदा कमाने के लिए आपका व्यवहार लोगों के साथ दोस्ताना होना चाहिए, क्योंकि अक्सर कस्टमर के द्वारा म्युचुअल फंड एजेंट के दोस्ताना व्यवहार को काफी सराहा जाता है। अपने अच्छे व्यवहार से आप कस्टमर के साथ काफी घुल मिल सकते हैं। इससे आपको ही फायदा होता है। इसके अलावा म्युचुअल फंड एजेंट के अंदर लीडरशिप की क्वालिटी भी होनी चाहिए।

काम करने का जज्बा (Passion for Work)

सफल म्यूचल फंड एजेंट बनने के लिए आपके अंदर काम करने का जोश होना चाहिए। इसके अलावा अपनी बात लोगों से मनवाने का टैलेंट भी आपके अंदर होना चाहिए साथ ही साथ आपके पास म्यूच्यूअल फंड से संबंधित सभी प्रकार की इंफॉर्मेशन उपलब्ध होनी चाहिए, ताकि आप कस्टमर को सभी चीजों पर संतुष्ट कर सके और उसे शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने के लिए मना सकें।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने का तरीका (Mutual Fund Distributor Kaise Bane)

म्यूचल फंड एजेंट बनने के लिए जिस प्रक्रिया का आपको पालन करना होता है, उस प्रक्रिया को हम नीचे विस्तार से समझा रहे हैं, ताकि आप म्यूच्यूअल फंड एजेंट बन सके।

1: सर्वप्रथम NISM Series V-A के लिए पंजीकरण करवाएं

जो भी व्यक्ति म्युचुअल फंड एजेंट बनना चाहता है उसे सबसे पहले उपरोक्त परीक्षा के लिए अपना पंजीकरण करवाने की आवश्यकता होती है। उपरोक्त परीक्षा का आयोजन देश के 150 से भी अधिक शहरों में नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ सिक्योरिटी मार्केट [National Institute of Securities Markets] के द्वारा करवाया जाता है। इस परीक्षा में शामिल होने के लिए आपको ₹1500 की फीस भरने की आवश्यकता होती है।

परीक्षा में शामिल होने के लिए आपको ऑनलाइन आवेदन करना होता है। ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आप नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सिक्योरिटी की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं, जिसका लिंक https://certifications.nism.ac.in/nismaol/ है।

ऑनलाइन अपना पंजीकरण करवाने के पश्चात आगे की सभी इंफॉर्मेशन आपको समय-समय पर अपने मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी पर मिलती रहती है और आप म्यूचल फंड एजेंट बनने की प्रक्रिया में आगे बढ़ते रहते हैं।

2: NISM Series V-A परीक्षा को पास करें (National Institute of Securities Markets Exams)

ऑनलाइन पंजीकरण करने के पश्चात साथ ही साथ एनरोलमेंट और फीस की पेमेंट करने के 24 घंटे के पश्चात विद्यार्थी उपरोक्त आधिकारिक वेबसाइट में लॉगिन कर सकते हैं और साथ ही स्टडी मैटेरियल की सॉफ्ट कॉपी को भी डाउनलोड कर सकते हैं, क्योंकि जब आप फीस की पेमेंट कर देते हैं तब आपको डैशबोर्ड में स्टडी मैटेरियल को डाउनलोड करने की सुविधा मिल जाती है।

हालांकि आप चाहें तो ऑनलाइन किसी अन्य वेबसाइट से भी NISM सीरीज की किताबों की खरीदारी कर सकते हैं या फिर लोकल बुक स्टोर से भी किताबों की खरीदारी कर सकते हैं। सामान्य तौर पर एग्जाम में विद्यार्थियों को 100 सवाल का जवाब देने की आवश्यकता होती है। प्रत्येक सवाल के 1 अंक होते हैं। इस प्रकार से 100 सवाल के 100 अंक होते हैं।

उपरोक्त परीक्षा को पास करने के लिए उम्मीदवार को कम से कम 50 परसेंट अंक लाने की आवश्यकता होती है। बता देना चाहते हैं कि उपरोक्त एग्जाम में सवालों का जवाब देने के लिए आपको 2 घंटे का समय मिलता है। इसी 2 घंटे में आपको सभी सवालों को हल करने की आवश्यकता होती है।

इस एग्जाम को पास करने के बाद विद्यार्थियों को जो सर्टिफिकेट दिया जाता है, उसकी वैलिडिटी 3 साल तक होती है। आपको जो सर्टिफिकेट मिलता है, उसका नवीनीकरण करने के लिए सर्टिफिकेट एक्सपायर होने से पहले ही आपको उससे रिलेटेड परीक्षा को पास करने की जरूरत होती है।

Read Also : एक सफल फ्रीलान्स फोटोग्राफर कैसे बने |

3: म्यूच्यूअल फण्ड एसोसिएशन से ARN प्राप्त हासिल करें (Mutual Fund Advisor Kaise Bane)

NISM परीक्षा को पास कर लेने के बाद तथा सर्टिफिकेट हासिल कर लेने के पश्चात आपको म्यूचल फंड एसोसिएशन में अपने आप को पंजीकृत करने की आवश्यकता होती है। ऐसा करना इसलिए आवश्यक होता है क्योंकि जो म्युचुअल फंड एजेंट म्यूचल फंड एसोसिएशन के साथ पंजीकृत नहीं होते हैं उन्हें इनवेलिड म्युचुअल फंड एजेंट माना जाता है और जो म्युचुअल फंड एजेंट म्यूच्यूअल फंड एसोसिएशन के साथ पंजीकृत होते हैं उन्हें अधिकृत म्युचुअल फंड एजेंट माना जाता है।

जब आप म्युचुअल फंड एसोसिएशन में अपना पंजीकरण करवाते हैं तो कुछ ही दिनों के बाद आपको एसोसिएशन ऑफ इंडिया के द्वारा ARN नंबर प्रदान कर दिया जाता है। सभी म्यूच्यूअल फंड एजेंट का ARN नंबर अलग अलग होता है। अगर कोई म्यूच्यूअल फंड एजेंट ऑनलाइन एआरएन नंबर हासिल करना चाहता है, तो इसके लिए वह ऑनलाइन आवेदन कर सकता है।

4: म्यूच्यूअल फंड हाउस से एग्रीमेंट करें (Mutualfund Houses )

ARN NUMBER को प्राप्त कर लेने के पश्चात आप एक अधिकृत म्यूच्यूअल फंड एजेंट हो जाते हैं, परंतु आपके पास कस्टमर को बिक्री करने हेतु खुद का आइटम मौजूद नहीं होता है। ऐसे में आपको अपने अगले कदम के तौर पर म्युचुअल फंड हाउस या फिर ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी के साथ एग्रीमेंट करने की आवश्यकता होती है। हमारे देश में बहुत सारे म्यूचल फंड हाउस मौजूद है। ऐसे में आप जिस म्युचुअल फंड हाउस के साथ काम करना चाहते हैं, आप उस म्यूचल फंड हाउस के साथ जुड़ सकते हैं।

याद रखें कि आपको हमेशा अच्छे म्यूचल फंड हाउस के साथ ही अटैच होना चाहिए, क्योंकि वहां से आपको ज्यादा मात्रा में म्यूचुअल फंड मिल जाते हैं जिसकी वजह से आप जितना ज्यादा म्यूच्यूअल फंड बेच पाते हैं, आपकी उतनी ही ज्यादा कमाई होती है।

म्यूच्यूअल फंड हाउस के द्वारा एग्रीमेंट के अनुसार म्युचुअल फंड एजेंट को म्युचुअल फंड की बिक्री करने पर कमीशन प्रदान किया जाता है। इसके अलावा अगर आप अच्छी परफॉर्मेंस देते हैं तो म्यूच्यूअल फंड हाउस के द्वारा आप को प्रोत्साहन राशि भी समय-समय पर प्रदान की जाती रहती है।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने के लिए कोर्स (Mutual Fund Agent Courses)

म्यूचल फंड के बारे में जानकारी पाने के लिए आप इन्वेस्टमेंट बैंकिंग, स्टॉक ट्रेनिंग और फाइनेंस से संबंधित डिग्री को प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा अन्य कई कोर्स है जिसे अगर आप पूरा कर लेते हैं तो आप म्यूच्यूअल फंड की अच्छी इनफार्मेशन प्राप्त कर लेते हैं। टॉप म्युचुअल फंड से संबंधित कोर्स के नाम निम्नानुसार है।

● एमएससी कॉरपोरेट्स फाइनेंस एंड इन्वेस्टमेंट बैंकिंग
● मास्टर इन फाइनेंस इन इकोनॉमिक्स
● मास्टर ऑफ़ अप्लाइड फाइनेंस
● बैचलर इन फाइनेंस इन्वेस्टमेंट एंड रिस्क एमएससी इन बैंकिंग
● मास्टर इन इंटरनेशनल बैंकिंग एंड फाइनेंस मास्टर इन फाइनेंशियल मार्केट
● मास्टर इन स्टॉक मार्केट एंड फाइनेंशियल मार्केट एमएस फाइनेंस

दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज (Mutual Fund Courses Universities)

म्यूचल फंड से संबंधित कोर्स करने के लिए अथवा अकाउंटिंग और फाइनेंस से संबंधित कोर्स करने के लिए दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटी के नाम नीचे दिए गए है।

● हावर्ड यूनिवर्सिटी
● मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी)
● स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय
● लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स एंड पॉलिटिकल साइंस (एलएसई)
● ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय
● पेनसिल्वेनिया यूनिवर्सिटी
● कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
● कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, बर्कले (यूसीबी)
● शिकागो विश्वविद्यालय
● न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय (NYU)

भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज (Mutual Fund Courses University India)

फाइनेंस और अकाउंटिंग के कोर्स के लिए टॉप इंडिया में मौजूद यूनिवर्सिटी के नाम नीचे दिए गए हैं।

● मद्रास क्रिश्चियन यूनिवर्सिटी
● पारुल विश्वविद्यालय
● नरसी मोंजी कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स
● क्राइस्ट यूनिवर्सिटी
● सिम्बायोसिस कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड कॉमर्स
● आरए पोदार कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स
● लोयोला कॉलेज
● सेंट जोसेफ कॉलेज ऑफ कॉमर्स
● एचआर कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स
● स्टेला मैरिस कॉलेज

म्यूच्यूअल फंड की फिल्ड में कैरियर बनाने हेतु योग्यता (Mutual Fund Filed Career)

म्यूच्यूअल फंड एजेंट कैसे बना जाता है, इसे समझने के लिए आपको कुछ आवश्यकताओं को पूरा करने की आवश्यकता होती है। नीचे हमने कुछ सामान्य ऐसी आवश्यकताओं की जानकारी आपको दी है जिन्हें आपको इस फील्ड में अपना कैरियर बनाने के लिए ध्यान में रखने की जरूरत होती है।

● इस फिल्ड में आने के लिए आपकी उम्र कम से कम 18 साल या फिर उससे ज्यादा होनी चाहिए।

● जो भी विद्यार्थी इस फिल्ड में आना चाहता है, उसे किसी भी क्षेत्र में कम से कम 3 साल के डिप्लोमा के साथ अपनी सीनियर सेकेंडरी एजुकेशन अर्थात 12वीं क्लास, 10वीं क्लास को पास किया होना आवश्यक होता है।

● सामान्य तौर पर इस फील्ड में आने के लिए इन्वेस्टमेंट बैंकिंग में अथवा फाइनेंस में डिग्री को पसंद किया जाता है।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने से संबंधित कोर्स में एडमिशन लेने हेतु दस्तावेज

दस्तावेज की सूची नीचे दी गई है (Documents for Mutual Fund Course Admission)

● 10वीं और 12वीं कक्षा के अकादमिक ट्रांसक्रिप्ट।
● सभी आधिकारिक शैक्षणिक ट्रांसक्रिप्शन और ग्रेड कार्ड
● पासपोर्ट साइज़ फोटो
● पासपोर्ट फोटो कॉपी
● वीजा
● अपडेट किया गया रिज्यूमे
● अंग्रेजी भाषा कुशलता परीक्षा के अंक
● सिफारिश पत्र या LOR
● स्टेटमेंट ऑफ़ पर्पस

Read Also : एक सफल फ्रीलान्स कॉपीराइटर कैसे बने?

म्यूच्यूअल फंड एजेंट की सैलरी (Mutual Fund Agent Bankar Paise Kaise Kamaye)

म्यूच्यूअल फंड एजेंट की तनख्वाह कितनी हो सकती है, यह डिपेंड करता है कि उसे काम का कितने सालों का एक्सपीरियंस है। शुरुआत में तो आपको थोड़ी कम तनख्वाह मिलती है, परंतु जब आपको काम का अच्छा खासा एक्सपीरियंस हो जाता है, तो आपकी तनख्वाह में बढ़ोतरी होती है।

शुरुआत में म्यूच्यूअल फंड एजेंट के तौर पर आपकी तनख्वाह हर महीने 21000 से लेकर के ₹25000 के आसपास में हो सकती है और कुछ सालों का एक्सपीरियंस प्राप्त करने के बाद आपकी हर महीने की तनख्वाह 50000 से लेकर के ₹100000 तक भी हो सकती हैं। आपको हम यह भी बता देना चाहते हैं कि कौशल और जानकारी के हिसाब से म्यूचल फंड एजेंट महीने हर महीने ₹200000 तक की भी कमाई कर सकते हैं।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट कमीशन चार्ट (Mutual Fund Agent Commission Chart)

किसी स्पेशल कमिशन स्ट्रक्चर के माध्यम से म्युचुअल फंड एजेंट के द्वारा अपने लिए कमाई के अन्य कई सोर्स को भी बना लिया जाता है। इस प्रकार से वह इंडिपेंडेंट काम करके भी एक्स्ट्रा कमाई कर सकते हैं। सामान्य तौर पर दो प्रमुख प्रकार के कमिशन स्ट्रक्चर होते हैं, जिनकी जानकारी नीचे आपको दी गई है।

अपफ्रंट कमीशन

एक म्यूच्यूअल फंड एजेंट के तौर पर आप नए इन्वेस्टमेंट के पूरा हो जाने के पश्चात इस कमीशन को प्राप्त कर सकते हैं। यह टोटल खर्च का एक हिस्सा होता है।

ट्रेल कमीशन

जो म्युचुअल फंड एजेंट होते हैं, उनकी कमाई का मुख्य जरिया ट्रेल कमीशन को माना जाता है। हालांकि यह कमीशन आपको तभी तक मिलता है, जब तक आपका कस्टमर म्यूचल फंड में पैसा लगाता रहता है।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट कितना पैसा कमा सकता है (Mutual Fund Expert Kamai) | म्यूच्यूअल फंड एक्सपर्ट कमाई एजेंट

यह सटीक तौर पर नहीं कहा जा सकता है कि, आखिर एक म्यूच्यूअल फंड एजेंट कितने रुपए की कमाई कर सकता है, क्योंकि इनकी कमाई कमीशन पर डिपेंड करती है। हालांकि अगर म्यूच्यूअल फंड एजेंट किसी कंपनी में नौकरी कर रहा है तो उन्हें हर महीने एक निश्चित तनख्वाह मिलती है, जो कि शुरुआत में 21000 से लेकर 25000 तक होती है और आगे चलने पर 1 महीने में इनकी सैलरी 50000 से लेकर 100000 भी पहुंच जाती है।

वहीं कमीशन के तौर पर म्युचुअल फंड एजेंट की कमाई निश्चित नहीं होती है। म्यूच्यूअल फंड एजेंट के द्वारा जितने अधिक कस्टमर को अपनी सर्विस दी जाती है और जितना ज्यादा कस्टमर सर्विस से संतुष्ट होते हैं, उतना ही ज्यादा कमीशन म्यूचल फंड एजेंट को मिलता है, जिससे उनकी कमाई ज्यादा होती है।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट की जिम्मेदारी (Mutual Fund Agent Resposnibility)

एक म्युचुअल फंड एजेंट को निम्न प्रकार की जिम्मेदारी का निर्वहन करना होता है।

● म्यूच्यूअल फंड एजेंट की प्रमुख जिम्मेदारी होती है कि वह शेयर मार्केट में पैसा लगाने वाले व्यक्ति की आवश्यकताओं को समझें और यह जाने कि उसके कस्टमर का लक्ष्य क्या है।

● म्यूचल फंड एजेंट की यह भी जिम्मेदारी होती है कि वर्तमान में जो फाइनेंसियल प्रोडक्ट मौजूद है उसकी कंपलीट इनफॉरमेशन अपने कस्टमर को प्रोवाइड करवाएं ताकि कस्टमर सही डिसीजन ले सके।

● इन्वेस्टमेंट ऑप्शंस की विविधता का आकलन करना भी म्युचुअल फंड एजेंट की जिम्मेदारी होती है।

● म्यूच्यूअल फंड एजेंट के द्वारा अपने कस्टमर के फाइनेंसियल रिकॉर्ड को तैयार भी किया जाता है जिसमें ट्रांजैक्शन की जानकारी, इनकम स्टेटमेंट और अन्य कई बातें शामिल होती हैं।

● म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर और म्यूच्यूअल फंड एडवाइजर में अंतर

● म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर कस्टमर को म्यूचल फंड की खरीदारी करवाता है और उसकी बिक्री करवाता है। म्यूचुअल फंड डिसटीब्यूटर डायरेक्ट तौर पर म्यूच्यूअल फंड प्रोडक्ट में शामिल होते हैं, परंतु वहीं दूसरी तरफ म्यूचल फंड एडवाइजर के पास काफी ज्यादा आइटम और सर्विस संभालने के लिए होती है।

● म्युचुअल फंड एडवाइजर के द्वारा इन्वेस्टर की प्रॉपर्टी का एसेसमेंट, उसकी इनकम, खर्च और अन्य आइटम पर महत्वपूर्ण एडवाइज दी जाती है, साथ ही इन्वेस्टर की जो आवश्यकता है, उसके हिसाब से उचित प्रोडक्ट की सिफारिश भी म्यूचल फंड एडवाइजर करता है।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट का कैरियर स्कोप (Mutual Fund Distributor Career)

हमारे भारत देश में लोगों के द्वारा अब बड़े पैमाने पर म्यूचल फंड में इन्वेस्टमेंट किया जा रहा है। ऐसा होने से उन लोगों को काफी तगड़ा फायदा प्राप्त हो रहा है, जो शेयर मार्केट में अपना कैरियर बनाने की इच्छा रख रहे हैं या फिर जो लोग शेयर मार्केट में काम कर रहे हैं।

म्यूच्यूअल फंड की जानकारी अधिक लोगों को नहीं होती है। ऐसे में लोगों को म्यूचल फंड में पैसा लगाने के लिए म्यूच्यूअल फंड एजेंट की आवश्यकता होती ही है। इस प्रकार से देखा जाए तो म्यूचल फंड एजेंट का कैरियर स्कोप इस फील्ड में काफी बेहतरीन है।

म्यूच्यूअल फंड एजेंट का सिलेबस (Mutual Fund Course Syllabus)

म्यूच्यूअल फंड एजेंट का सिलेबस कुछ इस प्रकार होता है।

● Investment Landscape
● Concept and Role of A Mutual Fund Legal Structure of Mutual Funds in India Legal and Regulatory Framework Scheme Related Information
● Fund Distribution and Channel Management Practices
● Net Asset Value
● Total Expense Ratio and Pricing of Units Taxation
● Investor Services
● Risk
● Return and Performance of Funds
● Mutual Fund Scheme Performance Mutual Fund Scheme Selection

म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने के फायदे (Mutual Fund Agent Banane Ke Fayde)

म्युचुअल फंड एजेंट बनने के क्या फायदे होते हैं, आइए जानते हैं।

● म्यूच्यूअल फंड एजेंट बन जाने के पश्चात आपके पास पैसा कमाने के बहुत सारे तरीके उपलब्ध हो जाते हैं।

● आप म्युचुअल फंड एजेंट बनने के बाद अपनी इच्छा के अनुसार पार्ट टाइम भी काम कर सकते हैं या फिर चाहे तो फुल टाइम भी काम कर सकते हैं।

● इसमें आपके काम करने मे समय की बाध्यता नहीं होती है।

● म्यूच्यूअल फंड एजेंट के तौर पर आप स्वतंत्र रूप से काम कर सकते हैं।

● आप म्युचुअल फंड एजेंट बनने के पश्चात किसी व्यक्ति को अगर एडवाइज देंगे तो इसके बदले में भी आप कमीशन या फिर पैसा ले सकते हैं।

● म्यूच्यूअल फंड एजेंट के काम में आप की कमाई निश्चित नहीं होती है।

● आप रोज ₹1000 भी कमा सकते हैं या फिर ₹10000 भी कमा सकते हैं।

● म्यूचल फंड एजेंट में आपकी कमाई कमीशन पर आधारित होती है।

भारत के टॉप म्युचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर (Top Mutual Fund Distributor of India)

हमारे देश के सबसे अच्छे म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर के नाम निम्नानुसार हैं।

● एचडीएफसी एसेट मैनेजमेंट कंपनी
● आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एसेट मैनेजमेंट कंपनी
● एसबीआई फंड्स मैनेजमेंट प्रा. लिमिटेड
● बिड़ला सन लाइफ एसेट मैनेजमेंट कंपनी
● एक्सिस एसेट मैनेजमेंट कंपनी
● कोटक महिंद्रा एसेट मैनेजमेंट कंपनी
● डीएसपी ब्लैकरॉक इंवेस्टमेंट मैनेजर्स प्रा. लिमिटेड
● फ्रैंकलिन टेम्पलटन एसेट मैनेजमेंट (इंडिया) प्रा. लिमिटेड
● रिलायंस कैपिटल एसेट मैनेजमेंट लिमिटेड
● आईडीएफसी एसेट मैनेजमेंट कंपनी

FAQ: Mutual Fund Distributor Kaise Bane

Q: मैं म्यूचुअल फंड एजेंट कैसे बन सकता हूं?

ANS: म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने की पूरी प्रक्रिया हमने विस्तार से इसी आर्टिकल में आपको बताई हुई है।

Q: AMFI एजेंट कैसे बने?

ANS: म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने की एग्जाम को पास करने के बाद आप AMFI में अपने पंजीकरण करवा सकते हैं और AMFI एजेंट बन सकते हैं।

Q: म्यूच्यूअल फंड एजेंट पैसा कैसे कमाते हैं?

ANS: म्यूच्यूअल फंड एजेंट कमीशन के तौर पर पैसा कमाते हैं।

Q: म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर कौन है?

ANS: म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर को ही म्युचुअल फंड एजेंट कहा जाता है।

Q: म्यूच्यूअल फंड एजेंट बनने के लिए कौन सा कोर्स करें?

ANS: आप म्युचुअल फंड एजेंट बनने के लिए
एमएससी कॉरपोरेट्स फाइनेंस एंड इन्वेस्टमेंट बैंकिंग, मास्टर इन फाइनेंस इन इकोनॉमिक्स, मास्टर ऑफ़ अप्लाइड फाइनेंस, बैचलर इन फाइनेंस इन्वेस्टमेंट एंड रिस्क, एमएससी इन बैंकिंग, मास्टर इन इंटरनेशनल बैंकिंग एंड फाइनेंस, मास्टर इन फाइनेंशियल मार्केट जैसा कोर्स कर सकते हैं।

Read Also :

Whatsapp GroupJoin
Telegram ChannelJoin
Share your love

2 Comments

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *